IPL Income आईपीएल दिखाकर भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड कमा रहा 16000 करोड़ रूपये सालाना, टी-शर्ट, कैप से लेकर हर चीज में कमाई जानें टीमें कैसे कमाती है अरबों रूपये

Indian Premier League

IPL Income: IPL 2022 की शुरुआत हो चुकी है। अगले दो महीने भारत में क्रिकेट का सुपर एक्शन चालू हो गया है। 2008 में पहले सीजन के बाद से लगातार आईपीएल की लोकप्रियता और कमाई दोनों बढ़ती ही जा रही है। चौकों – छक्कों की बरसात के साथ ही आईपीएल BCCI से लेकर टीम के मालिकों और खिलाड़ियों तक के लिए पैसे की बारिश करने वाला टूर्नामेंट बन गया है। ऐसे में हम आपके लिए लेकर आये हैं कि आखिर कैसे IPL में टीमें कमाई करती है ? IPL का क्या बिजनेस मॉडल है, कैसे इस टूर्नामेंट से BCCI यानि भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड को होता है मोटा फायदा ?

यह भी पढ़ें —> अब बिना कुछ ख़रीदे ऑनलाइन घर बैठे बनायें बजाज का क्रेडिट कार्ड।

What is IPL आईपीएल क्या है ?

आईपीएल यानि इंडियन प्रीमियर लीग एक T20 क्रिकेट लीग है, जिसका आयोजन भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड यानि BCCI करता है। पहले आईपीएल की शुरुआत वर्ष 2008 में 8 टीमों के साथ हुई थी। जिसके बाद में इसमें दो और नई टीमें भी जुड़ी थी – कोच्चि टस्कर्स केरल और सहारा पुणे वॉरियर्स। लेकिन कई कारणों की वजह से से इस लीग से बाहर हो गई थी।

IPL Income: साल 2016-17 में राजस्थान रॉयल्स व चेन्नई सुपर किंग्स पर 2 साल का बैन लगने के दौरान गुजरात लायंस और राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स इसमें शामिल हुई थी, जो भी कुछ कारणों की वजह से फिर बाहर हो गई थी। इस साल 2022 में दो नई टीमें जुडी हैं – लखनऊ सुपर जायंट्स और गुजरात टाइटन्स। इस साल कुल 10 टीमें आईपीएल खेल रही है।

How do teams earn from IPL आईपीएल से कैसे करती है टीमें कमाई ?

IPL Income: आईपीएल का पूरा खेल एक बिजनेस की तरह चलता है। इसके हर हिस्से से BCCI और टीम मालिकों दोनों को जबरदस्त कमाई होती है। आईपीएल की कमाई को समझने के लिए इसे अलग अलग हिस्से में बांटकर समझते हैं –

1. Central Revenue सेंट्रल रेवेन्यू

IPL Income: इस कमाई का IPL से होने वाली कुल कमाई में से करीब 60 से 70 प्रतिशत हिस्सा है। सेंट्रल रेवेन्यू से कमाई का दो अहम् जरिया है – (i) मीडिया या ब्रॉडकास्टिंग राइट्स और (ii) टाइटल स्पोंसरशिप।

2. Advertisement & Promotional Revenue विज्ञापन और प्रोमोशनल रेवेन्यू

इससे होने वाली कमाई का हिस्सा करीबन 20 से 30 प्रतिशत तक होता है। इसमें टीम उत्पादों व कंपनियों का विज्ञापन करके कमाई करती है।

3. Local Revenue लोकल रेवेन्यू

कुल कमाई का करीबन 10 प्रतिशत तक का हिस्सा लोकल रेवेन्यू से प्राप्त होता है। इसमें टिकटों और अन्य चीजों से होने वाली कमाई शामिल की जाती है।

यह भी पढ़ें —> बिना इंटरनेट के यूपीआई से इस प्रकार भेजें पैसे।

Broadcasting Rights मीडिया या ब्रॉडकास्टिंग राइट्स

  • IPL की शुरुआत से ही कमाई का सबसे अहम जरिया उसके प्रसारण या ब्रॉडकास्टिंग राइट्स से होने वाली कमाई रही है।
  • ब्रॉडकास्टिंग राइट्स का अर्थ होता है की आईपीएल के मैच केवल वही टीवी चैनल दिखा पायेगा, जिसके पास इसके राइट्स होंगे।
  • आईपीएल की शुरुआत साल 2008 से अगले 10 वर्षों तक इसके ब्रॉडकास्टिंग के राइट्स सोनी टीवी चैनल के पास थे। सोनी ने इसके लिए BCCI को 8200 करोड़ रूपये दिए थे।
  • साल 2018 में IPL के ब्रॉडकास्टिंग की फिर से बोली लगाई गई थी और इस बार बाजी मारी स्टार स्पोर्ट्स ने। स्टार ने स्पोर्ट्स ने 2018 से लेकर 2022 तक, यानि 5 सालों के लिए IPL की ब्रॉडकास्टिंग के राइट्स 16347 करोड़ रूपये में ख़रीदे हैं।
  • एक अनुमान के अनुसार जानकारों का कहना है कि साल 2023 से 2028 के लिए IPL के ब्रॉडकास्टिंग राइट्स 30 हजार करोड़ रुपयों तक बिक सकते हैं।
  • शुरू में ब्रॉडकास्टिंग राइट्स से होने वाली कमाई में 20 प्रतिशत हिस्सा BCCI व 80 प्रतिशत हिस्सा टीमों को मिलता था।
  • ब्रॉडकास्टिंग राइट्स को अब बढाकर 50-50 प्रतिशत कर दिया है। यानि ब्रॉडकास्टिंग से होने वाली 50 प्रतिशत कमाई BCCI की व 50 प्रतिशत कमाई टीम की होगी।
  • IPL के पहले 10 संस्करण में प्रसारण अधिकार से BCCI और टीमों ने कुल 8200 करोड़ रूपये कमाए थे। यानि हर साल 820 करोड़ रूपये।
  • साल 2018 में स्टार स्पोर्ट्स ने 5 सालों के लिए मीडिया राइट्स 16347 करोड़ रुपयों में ख़रीदे थे। जिससे हर साल करीबन 3270 करोड़ रूपये कमाई की थी।

Title Sponsorship टाइटल स्पॉन्सरशिप

  • टाइटल स्पॉन्सरशिप भी आईपीएल की टीमों के लिए कमाई का बहुत बड़ा जरिया है। टाइटल स्पॉन्सरशिप का अर्थ होता है IPL के नाम के पहले अपना नाम जुड़वाना। जैसे – DLF IPL, Pepsi IPL, Dream11 IPL, Vivo IPL, TATA IPL
  • IPL 2008 से 2012 तक पांच सीजन के लिए देश के सबसे बड़े रियल एस्टेट डेवेलपर्स में शामिल डीएलएफ ने टाइटल स्पॉन्सरशिप राइट्स 200 करोड़ रुपयों में ख़रीदे थे।
  • इस बार टाटा ने आईपीएल 2022 – 2023 के टाइटल राइट्स 300 करोड़ रुपयों में खरीदे हैं।
स्पॉन्सरवर्ष (पीरियड)स्पॉन्सरशिप फीस (सालाना)
DLF (डीएलएफ)2008-201240 करोड़ रूपये
PEPSI (पेप्सी)2013-201579.40 करोड़ रूपये
VIVO (वीवो)2016-2017100 करोड़ रूपये
VIVO (वीवो)2018-2019439.80 करोड़ रूपये
DREAM11 (ड्रीम 11)2020222 करोड़ रूपये
VIVO (वीवो)2021439.80 करोड़ रूपये
TATA (टाटा)2022-2023300 करोड़ रूपये
IPL Title Sponsorship Income List

  • टीमें विज्ञापन और प्रमोशन के तहत खिलाड़ियों और अंपायर की जर्सी, हेलमेट, विकेट, मैदान, बाउंड्री लाइन पर दिखने वाले कंपनियों के नाम और लोगो आदि के लिए कंपनियां टीमों को पैसा देती है।
  • टीमें खिलाड़ियों से दूसरे ब्रांड के प्रमोशन यानि विज्ञापन भी करवाती है। कुछ टीमें खिलाड़ियों से खुद के ब्रांड के प्रमोशन भी करवाती है। जैसे मुंबई इंडियन जियो का विज्ञापन रोहित शर्मा से करवाती है।
  • अपने नाम और लोगो वाले टी-शर्ट, कैप, ग्लव्स आदि मर्चैंडाइज बेचकर भी पैसे कमाती है। एक रिपोर्ट्स के मुताबिक विज्ञापन और ब्रांड प्रमोशन से मुंबई इंडियंस जैसी टीमें हर साल 50 करोड़ रूपये तक कमा लेती है।

Local Revenue

  • IPL टीमों की कमाई का तीसरा जरिया होता है मैदान में बिकने वाले टिकट्स। एक मैच में बिकने वाली टिकट से करीब 4 से 5 करोड़ रूपये तक की कमाई होती है।
  • टिकट के जरिये होने वाली कमाई में से 80 प्रतिशत तक का हिस्सा घरेलु टीम को मिलता है। यानि हर मैच में टीमों को 3 से 4 करोड़ रुपयों तक की कमाई टिकट्स के जरिये हो जाती है। हालांकि पिछले कुछ समय से Covid-19 के कारण इसमें गिरावट देखने को मिली है।
  •  अगर टीमों की सेंट्रल विज्ञापन और लोकल रेवेन्यू से प्राप्त कमाई को आपस में जोड़ दें तो पिछले कुछ वर्षों में IPL की हर टीम को सालाना करीबन 300 करोड़ रूपये की कमाई हुई है।

यह भी पढ़ें —> IPL 2022 का पूरा शेड्यूल देखें।

Team’s Expenses कितना खर्च करती है टीमें

  • IPL टीमें इनमें से हर साल करीबन 90 करोड़ रूपये खिलाड़ियों की फीस पर खर्च करती है।टीमें हर साल 35 से 50 करोड़ रूपये ऑपरेशन कास्ट, जिसमें खिलाड़ियों के फ्लाइट और होटल में रुकने का खर्च आदि शामिल है – पर खर्च करती है।हर मैच के आयोजन के लिए टीमों को 50 लाख रूपये स्टेट एसोसिएशन को देना होता है, जो कि टीमों की कमाई के हिसाब से 25 से 30 करोड़ रूपये बनता है।

Prize Money विजेता राशि

  • 2021 में विजेता टीम को 20 करोड़ रूपये प्राइज मनी मिली थी।रनर अप टीम को 12.5 करोड़ रूपये मिले थे।तीसरे व चौथे नंबर पर रहने वाली टीमों को क्रमशः – 8.75 व 8.75 करोड़ रूपये मिले थे।प्राइज मनी का 50 प्रतिशत हिस्सा यानि आधा हिस्सा टीम मालिक को मिलता है, तथा आधा हिस्सा टीम में बंट जाता है।

Team’s Brand Value टीम की ब्रांड वैल्यू

टीमब्रांड वैल्यू (करोड़ रुपयों में)
Mumbai Indians761
Chennai Super Kings611
Kolkata Knight Riders543
Royal Challengers Bangalore536
Sunrisers Hyderabad442
Delhi Capitals370
Punjab Kings Eleven318
Rajasthan Royals249
Sourse: Duff & Phelps


यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं। इसमें किसी भी प्रकार की कोई समस्या हुई है तो हमसे संपर्क करें। और भी ऐसी पोस्ट के लिए हमें सब्सक्राइब करना न भूलें। और हाँ, हम व्हाट्सप्प पर भी हैं। व्हाट्सप्प पर लेटेस्ट पोस्ट पाने के लिए व अन्य किसी भी समस्या व सुझाव के लिए सम्पर्क करें।

If you like our post please Like, Comment & Subscribe.

Like us on FB: Daily Tech Updates

Join our WhatsApp group for the latest posts – Daily Tech Updates


close
Daily Tech Updates

Daily Tech Updates में आपका स्वागत है!

हमसे जुड़ने के लिए और किसी भी प्रकार की News को Miss न करने के लिए सब्सक्राइब करें -

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.

1 thought on “IPL Income आईपीएल दिखाकर भारतीय क्रिकेट कण्ट्रोल बोर्ड कमा रहा 16000 करोड़ रूपये सालाना, टी-शर्ट, कैप से लेकर हर चीज में कमाई जानें टीमें कैसे कमाती है अरबों रूपये”

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

कृपया Ads Blocker को बंद करें।

हमारी वेबसाइट को एक्सेस करने के लिए कृपया Ads Blocker को बंद करें, अन्यथा दूसरे ब्राउज़र का इस्तेमाल करें। हमें Support करने के लिए धन्यवाद।